1 से 100 तक भाज्य संख्याएँ

इस पेज पर आप 1 से 100 तक भाज्य संख्याएँ की सम्पूर्ण जानकारी पढ़ने वाले हैं तो पोस्ट को पूरा जरूर पढ़े।

पिछले पेज पर हमने पूर्ण संख्या और पूर्णांक संख्या की जानकारी शेयर की हैं यदि आपने वो पोस्ट नहीं पढ़ी हैं तो जरूर पढ़े।

चलिए इस पेज पर 1 से 100 तक भाज्य संख्याओं की समस्त जानकारी को पढ़ते एवं समझते हैं।

भाज्य संख्या किसे कहते हैं

ऐसी प्राकृत संख्या जो स्वंय और 1 से विभाजित होने के अतिरिक्त कम से कम किसी एक अन्य संख्या से विभाजित हो उन्हें भाज्य संख्या कहते हैं।

जैसे:- 4, 6, 8, 9, 10, 12, ………अनंत

भाज्य संख्या को अंग्रेजी में Composite Number कहते हैं।

1 से 100 तक भाज्य संख्याएँ

22426282
424446484
626466686
828486888
1030507090
1232527292
1434547494
1636567696
1838587898
20406080100

भाज्य संख्याएँ कैसे निकालें

जिस संख्या का गुणनखण्ड दो या दो से अधिक हो वे सभी धनात्मक पूर्णाक संख्याएँ भाज्य संख्याएँ कहलाती हैं।

अर्थात आसान भाषा में समझा जाए तो – तीन या तीन से अधिक गुणनखण्ड वाले धनात्मक संख्या को भाज्य संख्याएँ कहते हैं।

जैसे :-

20 ÷ 1 = 20
20 ÷ 2 = 10
20 ÷ 4 = 5
20 ÷ 5 = 4
20 ÷ 20 = 1

20 का गुणनखण्ड 20, 10, 5, 4 और 1 हैं। ये गुणनखण्ड तीन से अधिक हैं। अर्थात यह भाज्य संख्याएँ हैं।

भाज्य संख्याओं के प्रकार

गणितीय संख्याओं में भाज्य संख्याएँ को बनावट एवं उपयोग के आधार पर दो वर्गों में विभाजित किया जाता है।

  1. सम भाज्य संख्याएँ
  2. विषम भाज्य संख्याएँ

1. सम भाज्य संख्याएँ

ऐसी संख्याएँ जो पूरी तरह 2 से विभाजित हो जाए धनात्मक भाज्य संख्याएँ सम भाज्य संख्याएँ कहलाती है।

जैसे:- 4, 6, 10, 16, 25…………

सबसे छोटी सम भाज्य संख्या 4 होती हैं।

2. विषम भाज्य संख्याएँ

वे सभी विषम धनात्मक पूर्णांक जो अभाज्य संख्या नही है। अर्थात वह भाज्य संख्याएँ जो पूरी तरह 2 से विभक्त न हो उस संख्या को विषम भाज्य संख्या कहते है।

जैसे:- 9, 15, 21, 25 …………..

सबसे छोटी विषम भाज्य संख्या 9 होती है।

भाज्य संख्या से संबंधित महत्वपूर्ण बिंदु

  • सबसे छोटी भाज्य संख्या 4 होती है।
  • 2 भाज्य संख्या नही है।
  • भाज्य संख्याएँ विषम और सम हो सकती है।
  • भाज्य संख्याएँ केवल और केवल धनात्मक संख्या होती है।
  • भाज्य संख्याएँ, धनात्मक पूर्णांक संख्याएँ, पूर्ण संख्याएँ, प्राकृत संख्याएँ आदि हो सकती है।
  • दो से अधिक गुणनखंड वाली संख्याओं को भाज्य संख्याएँ कहाँ जा सकता है।
  • कोई भी धनात्मक पूर्णांक संख्याएँ भाज्य या अभाज्य संख्या होती है क्योंकि ये दोनों संख्याएँ एक दूसरे के पूरक होती है।

भाज्य संख्याओं पर आधारित प्रश्न

प्रश्न1. 1 से लेकर 10 के बीच कितनी भाज्य संख्याएँ हैं?
A. 2
B. 4
C. 6
D. 8

1 से लेकर 10 के बीच भाज्य संख्याएँ :- 4, 6, 8, 10 हैं।
अतः 1 से लेकर 10 के बीच 4 भाज्य संख्या हैं।

प्रश्न2. सबसे छोटी सम भाज्य संख्या कौनसी हैं?
A. 2
B. 4
C. 6
D. 8

उत्तर:- सबसे छोटी सम भाज्य संख्या 4 होती हैं।

प्रश्न3. प्रथम 10 भाज्य संख्याओं का योग बताइए?
A. 125
B. 120
C. 135
D. 130

हल:- प्रश्नानुसार,
प्रथम 10 भाज्य संख्याएँ – 4, 6, 8, 10, 12, 14, 16, 18, 20, 22
प्रथम 10 भाज्य संख्याओं का योग = 4 + 6 + 8 + 10 + 12 + 14 + 16 + 18 + 20 + 22
उत्तर:- 130

प्रश्न4. लगातार 35 सम संख्याओं का औसत क्या होगा?
A. 30
B. 31
C. 32
D. 36

हल:- प्रश्नानुसार,
n = 30
लगातार n तक सम संख्याओं का औसत = 35 + 1
औसत = 36
उत्तर:- 31

प्रश्न5. लगातार 50 सम संख्याओं का औसत क्या होगा?
A. 21
B. 31
C. 41
D. 51

हल:- प्रश्नानुसार,
n = 50
लगातार n तक सम संख्याओं का औसत = 50 + 1
औसत = 51
उत्तर:- 51

प्रश्न6. प्रथम 7 भाज्य संख्याओं और प्रथम 4 अभाज्य संख्याओं के बीच कितना अंतर होगा?
A. 41
B. 54
C. 61
D. 71

हल:- प्रश्ननानुसार,
प्रथम 7 भाज्य संख्याएँ – 4, 6, 8, 10, 12, 14, 16
प्रथम 3 अभाज्य संख्याएँ – 1, 3, 5, 7
भाज्य संख्याएँ और अभाज्य संख्याओं में अंतर = (4 + 6 + 8 + 10 + 12 + 14 + 16) – (1 + 3 + 5 + 7)
= 70 – 16
उत्तर:- 54

प्रश्न7. 2, 4, 6, 8, 10, 12, 14, 16, 18 तथा 20 का औसत क्या होगा?
A. 11
B. 13
C. 15
D. 17

हल: प्रश्नानुसार,
n = 20
लगातार n तक की सम संख्याओं का औसत = (n+2)/2
औसत = (20+2)/2
= 22/2
उत्तर:- 11

प्रश्न8. प्रथम 10 भाज्य संख्याओं और प्रथम 5 अभाज्य संख्याओं के बीच कितना अंतर होगा?
A. 41
B. 51
C. 96
D. 105

हल:- प्रश्ननानुसार,
प्रथम 10 भाज्य संख्याएँ – 4, 6, 8, 10, 12, 14, 16, 18, 20, 22
प्रथम 5 अभाज्य संख्याएँ – 1, 3, 5, 7, 9
भाज्य संख्याएँ और अभाज्य संख्याओं में अंतर = (4 + 6 + 8 + 10 + 12 + 14 + 16 + 18 + 20 + 22) – (1 + 3 + 5 + 7 + 9)
= 130 – 25
उत्तर:- 105

FAQ

Q.1 1 से 100 तक भाज्य संख्याएँ बताइए?


Ans. 4, 6, 8, 9, 10, 12, 14, 15, 16, 18, 20, 21, 22, 24, 25, 26, 27, 28, 30, 32, 33, 34, 35, 36, 38, 39, 40, 42, 44, 45, 46, 48, 49, 50, 51, 52, 54, 55, 56, 57, 58, 60, 62, 63, 64, 65, 66, 68, 69, 70, 72, 74, 75, 76, 77, 78, 80, 81, 82, 84, 85, 86, 87, 88, 90, 91, 92, 93, 94, 95, 96, 98, 99, 

प्रथम भाज्य संख्या कौन सी है?

Ans. एक भाज्य संख्या एक प्राकृतिक संख्या या एक धनात्मक पूर्णांक होती है जिसके दो से अधिक गुणनखंड होते हैं। सबसे छोटी भाज्य संख्या 4 है।

Q.3 भाज्य संख्या कौन सी है?

Ans. ऐसी संख्याएं जो 1 और स्वयं के अलावा किसी भी अन्य संख्या से पूर्णतः विभाजित हो जाएं, भाज्य संख्याएं कहलाती हैं। जैसे—4, 6, 8, 9,10,12, 14, 15, 16, 18, 20, 21, 22,

Q.4 97 एक अभाज्य संख्या क्यों है?

Ans. एक अभाज्य संख्या में केवल दो गुणनखंड होते हैं। साथ ही, 97 एक अभाज्य संख्या है और इसके केवल दो गुणनखंड 1 और 97 हैं । इस प्रकार, हम कह सकते हैं, 97, 1 और 97 के अलावा किसी अन्य प्राकृतिक संख्या से विभाज्य नहीं है।

उम्मीद हैं आपको 1 से 100 तक भाज्य संख्याएँ वाली यह पोस्ट पसंद आयी होगीं।

1 से 100 तक भाज्य संख्याओं से संबंधित किसी भी प्रश्न के लिए कमेंट करें।

Leave a Comment